Amazing facts about space in hindi अंतरिक्ष से जुड़े रोचक बाते

Amazing facts in hindi about space अंतरिक्ष से जुड़े रोचक बाते -अंतरिक्ष (Space) बहुत ज्यादा रोचक तथ्य और जानकारी  से भरी हुई है। इस website  https://www.activehindi.com/ में आपको बहुत सी जानकारी  व रोचक तथ्य पड़ने को मिलेगे जो की आपके ज्ञान को बढ़ाने में आपकी मदत करेगा | अंतरिक्ष (Space) कुछ रोचक तथ्य ये हे इन्हें पढे इन्हें भी पढे- Amazing facts in hindi -500 + रोचक तथ्य, Amazing facts about love in hindi प्यार से जुड़े रोचक तथ्य..


Amazing facts about space in hindi
Amazing facts about space in hindi
           

 Amazing facts about space in hindi अंतरिक्ष से जुड़े रोचक बाते


  • हमारे सौरमंडल में बुध व शुक्र ऐसे दो ग्रह हैं जिनका कोई भी उपग्रह नहीं है।
  • सूर्य पृथ्वी से 300000 गुना बड़ा है।
  • नासा के क्रेटर निरीक्षण और सेंसिंग सैटेलाइट ने यह घोषित किया है कि उन्हें चंद्रमा पर जल के प्रमाण मिले हैं।
  • बृहस्पति ही ऐसा ग्रह है जिसके सबसे ज्यादा उपग्रह हैं।
  • मंगल ग्रह पर 1 दिन 24 घंटे 39 मिनट और 35 सेकंड होता है।
  • अरुण ग्रह के 27 उपग्रह है, इनमें से 5 बड़े उपग्रह,22 छोटे उपग्रह हैं। टाइटेनिया इन सभी उपग्रहों में से सबसे बड़ा है।
  • सौरमंडल का दूसरा सबसे बड़ा ग्रह शनि है।
  • मिल्की वे में 200 बिलियन तारे पाए जाते हैं।
  • मरीनर 10 ही एक ऐसा एयरक्राफ्ट है जो बुध ग्रह पर गया हैं|
  • 2006 में प्लूटो को ग्रह की श्रेणी से हटा दिया गया था।
  • नासा ने अब अंतरिक्ष में अंतरिक्ष यात्रियों के लिए प्रिंटिड 3डी पिज़्ज़ा बनाने की भी तैयारी कर ली है।
  • कॉकरोज पृथ्वी की तुलना में अंतरिक्ष में ज्यादा तेजी से बड़े होते हैं।
  • चीन में मिल्की वे सिल्वर रिवर के रूप में जानी जाती है।
  • औसत रुप से चंद्रमा से पृथ्वी तक प्रकाश आने में 1.3 सेकेण्ड लगता है।
  • इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन का आकार एक फुटबाॅल मैदान के जितना है।

Amazing facts about sapce in hindi
Amazing facts about sapce in hindi इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन


  • अंतरिक्ष यात्री के मुताबिक, अंतरिक्ष में स्टेक, गर्म धातु और वेल्डेंग फोम की तरह खुशबू आ रही है।

इन्हें भी पढे- Amazing facts in hindi -500 + रोचक तथ्य



  • चंद्रमा का द्रव्यमान पृथ्वी के द्रव्यमान का आठवां भाग होता है।
  • हम पृथ्वी पर कहीं भी चले जाएं परंतु हम केवल चंद्रमा का एक ही भाग देख पाते हैं।
  • पृथ्वी एक ऐसा ग्रह है जिसका नाम किसी भी देवता के नाम पर नहीं रखा गया है।
  • सूर्य एक पूरा रोटेशन 25-35 दिनों में पूरा करता है।
  • यदि कोई तारा ब्लैक होल के काफी पास से होकर गुजरता है तो वह बिखर सकता है।
  • 1962 में अमेरिका ने अंतरिक्ष में एक हाइड्रोजन बम फेंका था जो कि हिरोशिमा में फेंके बम की अपेक्षा 100 गुणा ज्यादा शक्तिशाली था|
  • मंगल ग्रह से देखने पर सूर्यास्त नीला दिखाई देता है|
  • मंगल ग्रह पर 1 दिन, 24 घंटे 39 मिनट और 35 सेकंड का होता है|
  • “मिल्की वे गैलेक्सी” की चौड़ाई लगभग 1,00,000 प्रकाश वर्ष है|
  • हमारा चंद्रमा पृथ्वी से 4 सेंटीमीटर प्रति वर्ष की दर से दूर होता जा रहा है|
  • प्लूटो ग्रह चंद्रमा से भी छोटा है यहां तक की व्यास में यह USA से भी छोटा है|
  • हम पृथ्वी पर कहीं भी चले जाएं परंतु हमे चंद्रमा का केवल एक ही भाग देखने को मिलेगा|
  • ज्यादा समय अंतरिक्ष में रहने पर अंतरिक्ष यात्रियों का ह्रदय थोड़ा गोलाकार हो जाता है|
  • अरुण ग्रह को मूल रुप से जॉर्ज स्टार कहा जाता हैं|
  • अमेरिका को अंतरिक्ष में पहला इंसान भेजने में कामयाबी 20 फरवरी 1962 को मिली थी|
  • अगर मनुष्य को बिना किसी सुरक्षा उपाय के स्पेस में छोड़ दिया जाए तो वह केवल 2:00 मिनट तक ही जीवित रह पायेगा|
  • स्पेस में यदि दो धातु आपस में स्पर्श कर ले तो वह हमेशा के लिए जुड़ जाती है|
  • सौरमंडल में वर्तमान में 166 मून है|
  • मरीनर 10 ही एक ऐसा एयरक्राफ्ट है जो बुध ग्रह पर गया हैं|
  • Albert Einstein की माने तो अंतरिक्ष में जो तारें हमे नज़र आते है वो असल में उस जगह नहीं है बल्कि उनके द्वारा छोड़े गए कई सालों पुराना प्रकाश है|
  • पृथ्वी, मंगल, बुद्ध और शुक्र ग्रहों को आंतरिक ग्रह कहा जाता है क्योंकि ये सभी सूरज के सबसे नज़दीक है|


  • अंतरिक्ष से देखने पर पृथ्वी एक नीली गेंद की तरह दिखाई देती है क्योंकि पृथ्वी पर 71% पानी है जिसके कारण वह नीली दिखाई देती है|
  • अगर आप स्पेस में हो इसका मतलब ये नहीं है की आपके कंप्यूटर में वायरस नहीं आ सकता. स्टेशन के 52 कंप्यूटर में एक से ज्यादा बार वायरस अटैक हो चुके है
  • अगर आप स्पेस में किसी के सामने खड़े रहकर भी तेज चिल्लाएंगे तो भी वह आपकी आवाज नहीं सुन पायेगा क्योंकि अंतरिक्ष में आपकी आवाज को एक स्थान से दुसरे स्थान तक पहुचाने का कोई माध्यम नहीं हैं|
  • Astronauts” शब्द अमेरिका से आया हैं जबकि रूस में अंतरिक्ष खोजकर्ता को “Cosmonauts” कहा जाता है|
  • प्रकाश को सूर्य से पृथ्वी तक आने में 8.3 मिनट का समय लगता है|
  • मंगल ग्रह पर कम गुरुत्व के कारण पृथ्वी पर 100 किलोग्राम वाले व्यक्ति का वजन वहां 38 किलोग्राम होगा|
  • गुरुत्वाकर्षण बल कभी-कभी धूमकेतु को भी तोड़ सकता है|
  • अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री जॉन ग्लेन दुनिया के सबसे बुजुर्ग अंतरिक्ष यात्री थे, उन्होंने सन् 1996 में 77 साल की उम्र में स्पेस शटल डिस्कवरी पर जाकर सबसे बुजुर्ग अंतरिक्ष यात्री होने का रिकॉर्ड बनाया था.
  • NASA एक व्यक्ति को तब तक अंतरिक्ष यात्री नहीं मानता जब तक वो पृथ्वी की सतह से 50 मील की यात्रा नहीं कर लेता हैं
  • “जेन डेविस और मार्क ली” अंतरिक्ष में एक साथ जाने वाले पहले कपल थे. सन् 1992 में वे दोनों स्पेस शटल इंडीवर के चालक दल में शामिल थे|
  • अंतरिक्ष में सूर्य सफ़ेद दिखाई देता है|
  • अंतरिक्ष सूट को बनाने में 12 मिलियन डाॅलर खर्च होते हैं|
  • अंतरिक्ष में होते हुए आप हर 90 मिनट में सूर्योदय देख सकते हैं|
  • अंतरिक्ष यात्रियों को सोने के लिए काफी मेहनत करनी होती है, उन्हें आंखों पर पट्टी बांध कर एक बंकर में सोना होता है ताकि वह तैरने और इधर-उधर टकाराने से बच सके|
  • लाइका नामक कुत्ते ने 13 नवंबर 1957 को स्पूतनिक II यान में बैठकर धरती का चक्कर लगाया था पर वह पृथ्वी पर जीवित वापस नहीं आ पाई थी|
  • जब स्पेस स्टेशन पूरी तरह से बन जायेगा तो वह पृथ्वी से लगभग 90% जनसंख्या को दिखेगा|
  • 10 अगस्त 2015 को नासा के एक अंतरिक्ष यात्री ने खाना खाया जो पहली बार अंतरिक्ष में ही उगाया गया था|
  • एक जानकारी के मुताबिक NASA में काम करने वाले 36% लोग भारतीय है|
  • संयुक्त राष्ट्र साल 2021 में अपना पहला अंतरिक्ष मिशन शुरू करने की योजना बना रहा है।
  • पहला मानव निर्मित वस्तु 1957 में अंतरिक्ष में भेजा गया था जब स्पुतनिक नामक रूसी उपग्रह लॉन्च किया गया था।
  • 2006 में, खगोलविदों ने एक ग्रह की परिभाषा बदल दी। इसका मतलब यह है कि प्लूटो को अब एक बौना ग्रह के रूप में जाना जाता है।
  • किसी अंतरिक्ष वाहन को वायुमंडल से बाहर निकालने के लिए कम से कम 7 मील प्रति सेकंड की गति की आवश्कता होती हैं, पर ऐसा क्यों हैं ऐसा अभी तक ज्ञात नहीं हुआ हैं।
  • अंतरिक्ष में गुरुत्वाकर्षण के न होने से कमजोरी आती है और यह अंतरिक्ष में जाने वाले हर व्यक्ति के साथ होता है। इस कमजोरी से बाहर आने में एक यात्री को लगभग 2-3 दिन का समय लग सकता है।


तो friends, कैसी लगी आपको हमारी ये  post -

Amazing facts about space in hindi अंतरिक्ष से जुड़े रोचक बाते

 Amazing facts about space in hindi  अंतरिक्ष से जुड़े रोचक बाते - अगर आपके पास इस पोस्ट लेके कोई सुझाव या कोई शिकायत है तो कमेन्ट जरुर करें और अगर पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें।





Reactions

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां